Article

Daक्ष Carrer Point परिवार ने दी गणतंत्र दिवस पर देशवासियो को बधाई

Daक्ष Carrer Point पर आज गणतंत्र दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में कोचिंग के निदेशक श्री सिंह ने कहा कि आज का दिन यह सोचने का नही है कि भारत ने हमे क्या दिया, आज हमे इस पर विचार करना है कि भारत के लिए हमने क्या किया, हमारा क्या योगदान है। किसी भी देश की पहचान उसके देशवासियों से होती है, उनके विचारों से होती है, उनकी लगन, मेहनत और इच्छा-शक्ति से होती है। आज विश्व हमारी तरफ़ आशा भरी निगाहों से देख रहा है, आइए गणतन्त्र दिवस के पावन पर्व पर शपथ लें कि हम देश के लिए योगदान करेंगे, कुछ ऐसा योगदान जो देश को और आगे ले जा सके। गणतंत्र दिवस को संविधान स्थापना के समारोह के रूप में मनाया जाता है तो इसमें कुछ

प्रदूषण के खर दूषण

प्रदूषण के खर दूषण

पर्यावरण की नाक कब की कट चुकी है। रक्तस्राव सी ग्लोबल वार्मिंग तेजी से बढ़ रही है। दुनिया के पर्यावरण को तहस नहस करने वाली खर दूषण सेना अब इसे बचाने की जिम्मेदारी का पाठ गरीब और विकासशील देशों को पढ़ा रही है।

Tags: 

जलवायु परिवर्तन के खतरे से बचाने वाले उपाय की उपेक्षा

जलवायु परिवर्तन के खतरे से बचाने वाले उपाय की उपेक्षा

जलवायु परिवर्तन के खतरों और कार्बन डाई ऑक्साइड को खपाने में अहम योगदान देने वाले जिस सबसे महत्वपूर्ण घटक पीपल की महत्ता प्रधानमंत्री मोदी ने पेरिस महासम्मेलन के दौरान दुनिया को तो बताई, उसी पीपल की अपने देश में ही उपेक्षा हो रही है।

प्रधानमंत्री ने सम्मेलन में कहा था कि जलवायु परिवर्तन के खतरों से निपटने में पीपल बहुत अहम है। पीपल प्रकृति का अविभाज्य हिस्सा है और बिना इसके प्रकृति के बारे में सोचा नहीं जा सकता। पीएम के कथन के आइने में अमर उजाला ने शोध-संस्थानों, आप-पास पीपल पर नजर डाली तो पता चला कि इस पर शोध प्रोजेक्ट न के बराबर हैं, पौध नर्सरियों में भी पीपल की उपेक्षा है।

Tags: 

कार्बन डाईऑक्साइड ऊर्जा का स्रोत हो सकता है

कार्बन डाईऑक्साइड ऊर्जा का स्रोत हो सकता है

न्यूयॉर्क| वैज्ञानिकों ने एक ऐसे उत्प्रेरक की खोज की है, जो कार्बन डाईऑक्साइड को सिनगैस में बदलने की प्रणाली में सुधार ला सकता है। सिनगैस ऊर्जा का एक वैकल्पिक स्रोत है। अमेरिका के शिकागो स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ इलिनोइस के वैज्ञानिकों ने रासायनिक प्रक्रिया के दौरान कार्बन डाईऑक्साइड के इलेक्ट्रॉन कम करने या हस्तांतरण करने के लिए दो चरणों में होने वाली एक उत्प्रेरक प्रक्रिया का विकास किया है, जिसमें मोलिब्डेनम डाईसल्फाइड और आयनिक द्रव्यों का प्रयोग किया जाता है।

कमजोर नींव पर शिक्षा की इमारत

कमजोर नींव पर शिक्षा की इमारत

स्वस्थ व सफल शिक्षा व्यवस्था के लिए मजबूत प्राथमिक शिक्षा रूपी नींव आवश्यक है. वर्तमान में प्राथमिक शिक्षा मुख्य रूप से दो श्रेणियों में विभाजित है.

सफलता का मूल मंत्र हैं एकाग्रता

सफलता का मूल मंत्र हैं एकाग्रता

प्रायः लोग अपनी असफलताओं के प्रति स्वयं के उत्तरदायित्व से बचने के लिए तमाम प्रकार के बहानों व कारणों को जिम्मेदार ठहराते हैं। वे इस बात को समझने में पूरी तरह विफल हैं कि असली समस्या उनकी अपनी  मनोवृत्ति में है…

अंश पूँजी क्या है एवं कितने प्रकार की होती है

share capital rksir

पूँजी (capital) -  पूँजी से आशय उस राशि से है जिसका प्रयोग कम्पनी की चल अथवा अचल संपत्ति को क्रय करने के लिए किया जाता है  पूँजी के बिना किसी कम्पनी का व्यापर आरम्भ नही किया जा सकता है  दुसरे शव्दों में कह सकते हैं कि पूँजी किसी भी व्यवसाय की मेरुदण्ड होती है यह कम्पनी के पार्षद सीमा नियम में उल्लेखित होती है

 

अंश पूँजी (share capital ) -  पूँजी के छोटे- छोटे भाग को हम अंश कहते हैं  कम्पनी के अपनी  पूँजी एकत्रित करने के लिए कम्पनी अपनी पूँजी कोछोते - छोटे हिस्सों में बाँट देती है जिसमें प्रतेक हिस्से को अंश कहा जाता है 

जरा याद करले उनको ............................जो लौट कर घर न आये

जरा याद करले उनको ............................जो लौट कर घर न आये

 15 अगस्त 1947  से  पहले हम अंग्रेजों के गुलाम थे। उनके बढ़ते हुए अत्याचारों से सारे भारतवासी त्रस्त हो गए और तब विद्रोह की ज्वाला भड़की और देश के अनेक वीरों ने प्राणों की बाजी लगाई, गोलियां खाईं और अंतत: आजादी पाकर ही चैन ‍लिया।  पहले हम अंग्रेजों के गुलाम थे उनके बढ़ते हुए अत्याचारों से सारे भारतवासी त्रस्त हो गए और तब विद्रोह की ज्वाला भड़की और देश के अनेक वीरों ने प्राणों की बाजी लगाई, गोलियां खाईं और अंतत: आजादी पाकर ही चैन ‍लिया।इसी दिन हमने अत्याचारी ब्रितानी हुकूमत के बाद आजादी का पहला सूरज देखा था।  वह दिन  15 अगस्त 1947 था इस दिन हमारा देश आजाद हुआ, 

महान वैज्ञानिक डॉ कलाम को Daक्ष Carrer Point परिवार की श्रद्धांजलि

डॉ कलाम को  श्रद्धांजलि

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम अब नहीं रहे। राष्ट्र ने वास्तविक भारत रत्न को खो दिया।भारत ने अपना मिसाइल मैन को खो दिया है। डॉ. कलाम एक सच्चे राष्ट्रभक्त और विज्ञान, शिक्षा और नैतिकता के दुर्लभ संयोजन थे।कलाम को देश के पूर्व राष्ट्रपति के तौर पर ही याद नहीं रखा जाएगा बल्कि उनकी मेहनत के लिए भी उन्हें कभी नहीं भुलाया जा सकता। कलाम हमेशा नौजवानों को प्रेरणा देने का काम करते रहेंगे। 

उनको शत शत नमन    

डॉ. राधा कान्त

स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है

स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है

दुनिया में स्वास्थ्य से बढ़कर कुछ भी नहीं होता और शरीर अगर स्वस्थ हो तो सब कुछ अच्छा लगता है, दिल को सुकून मिलता है लेकिन अगर हम थोड़ा भी बीमार पड़ते हैं तो सारी दुनिया अधूरी सी लगने लगती है। इसलिए स्वास्थ्य को सबसे बड़ा धन भी कहा गया है लेकिन वर्तमान परिवेश और हमारी जीवन-शैली ने लोगों को अस्वस्थ होने पर मजबूर कर दिया है। क्या इस अस्वस्थता के लिए हमारे द्वारा निर्मित दूषित परिवेश और जीवन-शैली सर्वाधिक जिम्मेदार नहीं है?

Pages