Article

खुद को किसी से कम बुद्धिमान न समझें

खुद को किसी से कम बुद्धिमान न समझें

कई लोग ऐसे हैं जो बुद्धिमान होते हुए भी अपनी बुद्धि को कम करके आंकते हैं। बहुत सारी डिग्रियां या बड़ी नौकरी करने से ही कोई स्मार्ट नहीं हो जाता। अगर आपमें हैं ये 7 गुण तो यकीन मानिए कि आप अपनी सोच से अधिक बुद्धिमान हैं।

 

पर्फेक्शनिस्ट : जब भी आप किसी और से कोई काम करने को कहते हैं, आप उनके काम से संतुष्ट नहीं होते। अगर आपको खुद वह काम करना हो तो आपको कोई मुश्किल नहीं आती। इससे पता चलता है कि आप आसपास के उन तमाम लोगों से ज्यादा चतुर हैं।

 

कंपनी,अर्थ आवश्यकता एवं विशेषताएँ

कंपनी (Company) व्यापारिक संगठन का एक रूप होता है। संयुक्त राज्य अमेरिका में कंपनी एक निगम होता है- जिसका आशय एक संघ, संगठन, भागीदारी से हो सकता है और ये एक औद्योगिक उद्देश्य से जुड़ी होनी चाहिये।

साझेदारी फर्म क्या है

किसी भी व्यापार को कई प्रकार से अर्थात प्रोप्राइटरशिप, प्राइवेट लिमिटेड कंपनी, एचयूएफ तथा साझेदारी फर्म के रूप में चलाया जा सकता है। प्रत्येक व्यापार के स्वरूप एवं आकार पर निर्भर करता है कि उसका संचालन किस रूप में किया जाए। व्यापार का क्षेत्र, आकार अगर बड़ा हो तो उसे अकेला व्यक्ति नहीं संभाल सकता। सुचारु रूप से चलाने के लिए दो या इससे अधिक व्यक्तियों को आपस में मिलकर यानि साझेदारी के रूप में व्यापार चलाना होता है। साझेदारी फर्म क्या है तथा इसे कैसे बनाया जाता है, जानकारी दे रहे हैं अखिल भारतीय कर व्यवसायी संघ के सदस्य शक्ति सिंह एडवोकेट।

साझेदारी का अर्थ

Financial Statements

The financial information forms the basis of financial planning, analysis & decision making for an organization or an individual. Financial information is needed to predict, compare & evaluate the firm’s earning ability. All these financial information is contained in the financial statements. The three most important financial statements at our disposal are: Balance Sheet Profit & Loss Account Statement (Income statement) Cash flow statement 1.

पुस्तपालन (बुककीपिंग) तथा लेखाकर्म (एकाण्टैंसी) में अन्तर

पुस्तपालन (बुककीपिंग) तथा लेखाकर्म (एकाण्टैंसी) में अन्तर

1    अर्थ                                             पुस्तपालन का अर्थ व्यापारिक लेन-देन को प्रारम्भिक                                         लेखाकर्म से आशय है प्रारम्भिक पुस्तकों व खातों की सूचनाओं से अन्तिम खाते 
                                                        पुस्तकों व खातों में लिखना होता है।                                                                  बनाना व व्यावसायिक निष्कर्षों को ज्ञात करना व उनका विश्लेषण करना।

कुछ कदम सफलता की ओर

कुछ कदम सफलता की ओर

1. सही रास्ता चुनें

हम तभी कुछ हासिल करते हैं, जब एक टारगेट बनाकर उसी ओर चलते रहते हैं। ऐसा करने से हमें सक्सेस मिलती है, लोग हमारी तारीफ करते हैं। हमारी कामयाबी का गुणगान भी करते हैं। हमें भी खुशी मिलती है, लेकिन यह तभी संभव है, जब हम सही रास्ते पर चलें। इस बात का ध्यान रखें कि गलत रास्ते पर चलकर कभी सक्सेस नहीं मिल सकती। करियर बनाने के लिए हमें बस एक ही राह पर चलना चाहिए। बस, उसी राह को पकडकर आप भी आगे बढते रहें।

2. जरूरी हैं एटिकेट्स

Tags: 

Stress दूर भगाने के सात तरीके

Stress दूर भगाने के सात तरीके

तनाव या stressमें जरुरी नहीं कि दवाओं का सेवन किया जाए या डॉक्टर्स के ही चक्कर लगाये जाए। कुछ ऐसे पारम्परिक तरीके है, जिन्हें अपनाकर तनाव को मात देकर प्रसन्न रहा जा सकता है। लेखन से जोड़े खुद को – अच्छे दिनों की तरह यदि आप तनाव भरे दिनों में कुछ ना कुछ लिखना जारी रखते है तो आप तनाव को मात देने में सक्षम है। ब्रिटेन की येल यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओ का मानना है कि प्रतिदिन की गतिविधियों और भावनाओं को लिखने से आत्मनिरीक्षण में मदद मिलती है। इससे stressदूर करने में मदद मिलती है।

Tags: 

परीक्षा के दौरान स्टूडेंट और पेरेंट्स को क्या करना चाहिए?

परीक्षा के दौरान स्टूडेंट और पेरेंट्स को क्या करना चाहिए?

परीक्षा के दौरान स्टूडेंट और पेरेंट्स को क्या करना चाहिए?

परीक्षा के दौरान बच्चों और पेरेंट्स पर बेहतर रिजल्ट को लेकर मानसिक दबाव जबरदस्त होता है। ऐसे समय में कई बार बच्चों को कुछ मनोवैज्ञानिक समस्याए हो जाती है। वे ‘एंजाइटी’ के शिकार तक हो जाते है और अवसाद में चले जाते है, जो कि काफी गंभीर है। परीक्षा के इस तनाव से कैसे निपटा जाए, आइए जानते है...

सवाल : 1

बच्चों को लगता है कि परीक्षा देते समय वे सब कुछ भूल जाएंगे, इससे बाहर कैसे निकला जाए?

जवाब -

Tags: 

सफलता स्वयं उदाहरण है

सफलता स्वयं उदाहरण है

सफलता के चार उदाहरण नौकर से राष्ट्रपति – ओहिया के जंगल में गारफील्ड अपनी विधवा माँ के साथ रहता था। माँ जंगल में लकड़ी काटने जाती तो लड़के को झोपडी में ताले में बंद कर जाती ताकि वह जानवरों से भी बचा रहे। रात में वह उसे कुछ न कुछ पढ़ाती। कुछ दिनों बाद माँ बेटे ने एक खच्चर ले लिया व उस पर लकड़ी लाद कर बेचते। गारफील्ड ने एक पुस्तकालय में नौकरी की व पढाई भी जारी रखी। वह ग्रेजुएट हो गया, साथ ही उसे नई नौकरी भी मिली। नौकरी करते हुए बचे हुए समय में गारफील्ड समाज सेवा करता। इससे लोग उसे पहचानने लगे।

Tags: 

Pages