अंश पूँजी क्या है एवं कितने प्रकार की होती है

share capital rksir

पूँजी (capital) -  पूँजी से आशय उस राशि से है जिसका प्रयोग कम्पनी की चल अथवा अचल संपत्ति को क्रय करने के लिए किया जाता है  पूँजी के बिना किसी कम्पनी का व्यापर आरम्भ नही किया जा सकता है  दुसरे शव्दों में कह सकते हैं कि पूँजी किसी भी व्यवसाय की मेरुदण्ड होती है यह कम्पनी के पार्षद सीमा नियम में उल्लेखित होती है

 

अंश पूँजी (share capital ) -  पूँजी के छोटे- छोटे भाग को हम अंश कहते हैं  कम्पनी के अपनी  पूँजी एकत्रित करने के लिए कम्पनी अपनी पूँजी कोछोते - छोटे हिस्सों में बाँट देती है जिसमें प्रतेक हिस्से को अंश कहा जाता है 

कम्पनी अधिनियम की धरा 2(४६) के अनुसार “ अंश का आशय कम्पनी की पूँजी के न्यूनतम हिस्से से होता है                                                      

 

अंश पूँजी के प्रकार Kinds of share capital

अधिगृहित पूँजी (Athoriesed capital)  -  कम्पनी के स्थापना के समय वर्तमान व भविष्य दोनों की आवश्यकता को ध्यान में रख कर जिस पूँजी से कम्पनी की रजिस्ट्री की जाती है उसे अधिगृहित पूँजी कहलाती है पार्षद सीमानियम में उसका उल्लेख किया जाता है

 

निर्गमित पूँजी ( Issued Capital )  -  अधिगृहित पूँजी का वह भाग जो जनता से माँगा जाता है उसे निर्गमित पूँजी कहा जाता है कुछ पूँजी निर्गमित कर दी जाती है कुछ भाग कुछ समय बाद के लिए रख लिया जाता है

प्रार्थित पूँजी (Subscribed Capital)  -   निर्गमित पूँजी का वह भाग जो जनता द्वारा स्वीकार कर लिया जाता है उसे प्रार्थित पूँजी कहा जाता है

याचित पूँजी (Called up Capital)  -  प्रार्थित पूँजी की गयी पूँजी का वह भाग जो कम्पनी द्वारा आवेदक से हिस्सों में मांगी जाती है इसके लिए कम्पनी द्वारा याचना की जाती जैसे कुछ पूँजी आवेदन पर कुछ आबंटन पर और शेष सामान्य याचना / याचनाओं पर अर्थात पूँजी का वह भाग जो कम्पनी द्वारा छोटे - छोटे भागों में माँगा जाता है उसे याचित पूँजी कहते हैं

अयाचित पूँजी (Uncalled Capital)  -  याचित पूँजी का वह भाग जो जनता से अभी तक नही माँगा गया है उसे अयाचित पूँजी कहते है

चुकता पूँजी (Paid up Capital)  -    मांगी गई पूँजी का वह भाग जो अंशधारियों द्वारा भुगतान कर दिया जाता है उसे चुलता पूँजी कहते हैं

परन्तु कभी कभी अंशधारी द्वारा पूर्ण भुगतान नहीं किया जाता है तो उस बची हुई पूँजी की अवशिष्ट याचना ( calls in arrers ) कहा जाता है