पुस्तपालन (बुककीपिंग) तथा लेखाकर्म (एकाण्टैंसी) में अन्तर

पुस्तपालन (बुककीपिंग) तथा लेखाकर्म (एकाण्टैंसी) में अन्तर

1    अर्थ                                             पुस्तपालन का अर्थ व्यापारिक लेन-देन को प्रारम्भिक                                         लेखाकर्म से आशय है प्रारम्भिक पुस्तकों व खातों की सूचनाओं से अन्तिम खाते 
                                                        पुस्तकों व खातों में लिखना होता है।                                                                  बनाना व व्यावसायिक निष्कर्षों को ज्ञात करना व उनका विश्लेषण करना।

2    मुख्य उद्देश्य                                  पुस्तपालन का मुख्य उद्देश्य दिन प्रतिदिन के लेनदेनों                                          इसका मुख्य उद्देश्य पुस्तपालन से प्राप्त सूचनाओं से निष्कर्ष निकालना व 
                                                         को क्रमबद्ध रूप से पुस्तकों में लिखना है उनका विश्लेषण करना है।    

३       क्षेत्र                                       इसका क्षेत्र व्यापारिक लेनदेनों को लेखों की प्रारम्भिक                                           इसका क्षेत्र निरन्तर विस्तृत होता जा रहा है। लेखा पुस्तकों से व्यापारिक
                                                    पुस्तकों में लिखने व खाते बनाने तक सीमित रहता है।                                           निष्कर्ष निकालना, उनका विश्लेषण करना 
                                                                                                                                                                         तथा प्रबन्ध को उपयोगी सूचनाएंदेना इसके क्षेत्र में सम्मिलित हैं।

4   कार्य की प्रकृति                               इसका कार्य एक प्रकार से लिपिक प्रकृति का होता है।                                               लेखाकर्म एक प्रकार से तकनीकी प्रकृति का कार्य है।

5   परस्पर निर्भरता                           पुस्तपालन का कार्य स्वतंत्र रूप से किया जा सकता है।                                          लेखाकर्म पूर्ण रूप से पुस्तपालन से प्राप्त सूचनाओं पर निर्भर होता है।
                                                      यह लेखाकर्म पर किसी प्रकार से निर्भर नहीं होता है।