बूंद – बूंद पानी को तरसते लोग

बूंद – बूंद पानी को तरसते लोग

गर्मी में बूंद – बूंद पानी को तरसते लोग, गंदा पानी पीने को है मजबूर देशभर में अब अचानक गर्मी बढ़ने लगी है। इस गर्मी में ज़रा सी देर में ही हमारा गला सूखने लग जाता है और हम तुरंत पानी पीकर अपनी प्यास बुझाते हैं। मगर एक जगह ऐसी भी है जहां लोग अपनी प्यास बुझाने के लिए बूंद – बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं और वो जीवन बचाने के लिए गंदा पानी पीने के लिए मजबूर हैं। हम बात कर रहे हैं गिरिडीह की जहां जिस डाढ़ी में मवेशी पानी पीते हैं वही पानी ग्रामीण भी पीने को मजबूर हैं।

इस गांव की तस्वीर तमाम सरकारी दावों को मुंह चिढ़ाने के लिए काफी है। एक ओर सरकार ताल ठोक कर दावा कर रही है कि ग्रामीण क्षेत्रों में विकास कार्य जोरों पर चल रहा है। लेकिन योहजनाओं का लाभ ग्रामीणों को मिल भी रहा है या नहीं ये देखने वाला कोई नहीं है। योजनाएं गांव तक पहुच रही है लेकिन बिचौलिए और अधिकारियों की मिलीभगत के कारण ग्रामीणों तक योजनाओं का लाभ सीधे सीधे नहीं पहुंच पाता। अब ग्रामीण इस स्थिति को अपनी नियति मान चुके हैं। सवाल यह कि क्या ऐसे में हालात में तब्दीली की उम्मीद की जाए