ऐसे बढ़ेंगे सफलता की ओर कदम...

ऐसे बढ़ेंगे सफलता की ओर कदम

जीवन में आगे बढ़ने हेतु व्यक्ति निरंतर प्रयासरत रहता है। सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं होता। इसे प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को निरंतर मेहनत करनी ही होती है। किसी मुकाम पर पहुंचने के लिए व्यक्ति को अपनी मंजिल का भी पता होना चाहिए। इसके बगैर किया गया प्रयास व्यक्ति को असफलता की ओर ही ले जाता है। 

जीवन में सफल होने के कुछ टिप्स:-

ऐसे बढ़ेंगे सफलता की ओर कदम..

जीवन में आगे बढ़ने हेतु व्यक्ति निरंतर प्रयासरत रहता है। सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं होता। इसे प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को निरंतर मेहनत करनी ही होती है। किसी मुकाम पर पहुंचने के लिए व्यक्ति को अपनी मंजिल का भी पता होना चाहिए। इसके बगैर किया गया प्रयास व्यक्ति को असफलता की ओर ही ले जाता है। 

जीवन में सफल होने के कुछ टिप्स:-

सफलता असफलता के पीछे होती है

जब हम किसी सफल व्यक्ति को देखते हैं तो केवल उसकी सफलता को देखते हैं। इस सफलता को पाने की कोशिश में वह कितनी बार असफल हुआ है, यह कोई जानना नहीं चाहता। जबकि असफलता का सामना करे बिना शायद ही कोई सफल होता है। 

अमेरिका के रोनाल्ड रीगन फिल्मों में अभिनेता थे। पहली बार गवर्नर का चुनाव लड़े तो लोगों ने हंसी उड़ाई, लेकिन वे जीत गए। दो बार गवर्नर रहने के बाद जब उन्होंने राष्ट्रपति का चुनाव लड़ने का फैसला किया तो पार्टी ने उन्हें प्रत्याशी नहीं बनाया। चार साल बाद फिर उन्होंने कोशिश की, फिर भी कामयाबी नहीं मिली। 

कहां है समस्याओं का मूल ?

 

हर मनुष्य सफल होना चाहता है और सफलता के लिए जरूरी है समस्याओं से संघर्ष। समस्याओंरूपी चुनौतियों का सामना करने, उन्हें सुलझाने में जीवन का उसका अपना अर्थ छिपा हुआ है। समस्याएं तो एक दुधारी तलवार होती हैं, वे हमारे साहस, हमारी बुद्धिमत्ता को ललकारती हैं और दूसरे शब्दों में वे हम में साहस और बुद्धिमानी का सृजन भी करती हैं। मनुष्य की तमाम प्रगति, उसकी सारी उपलब्धियों के मूल में समस्याएं ही हैं। यदि जीवन में समस्याएं नहीं हों तो शायद हमारा जीवन नीरस ही नहीं, जड़ भी हो जाए। किसी ने सटीक कहा है कि-

 

हर मुश्किल के पत्थर को बनाकर सीढ़ियां अपनी,

कुछ आदत बदलें और हर कदम सफलता की ओर

सफलता की ओर

आपके मन में आता है, कहाँ से आ टपका यार! या कभी सामने वाले को देखकर आपके दिमाग का पारा सातवें आसमान पर जा पहुँचता है। कुछ लोगों को सामने पाकर आपके दिल को एक सुकून भी पहुँचता होगा। आखिर ऐसा क्यों होता है कि कोई हमें अच्छा लगता है तो कोई बुरा? 

आप भी किसी को अच्छे लग सकते हैं या किसी को आपको देखकर नाक-भौंह सिकोड़ने की इच्छा होती होगी। क्यूँ न ऐसा कुछ करें कि आप दूसरों के दिलों में अपने लिए जगह बना लें। आपको बस स्वयं को कुछ मापदंडों पर कसकर थोड़ा बदलना है।

Pages